टीबी - क्षय रोग (Tuberculosis)

टीबी (क्षय रोग) एक अत्यंत संक्रामक रोग है जो फेफड़ों को प्रभावित करता है और हवा के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। यह टीबी एक अत्यधिक संक्रामक बैक्टीरिया के कारण होता है जिसे माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस (Microbacterium tuberculosis) के रूप में जाना जाता है ।


क्षय रोग (टीबी) आमतौर पर फेफड़ों को प्रभावित करता है, लेकिन यह मस्तिष्क, गुर्दे, लिवर, रीड की हड्डी, इंटेस्टाइन और अन्य अंगों में भी फैल सकता है। क्षय रोग के सामान्य लक्षणों में खाँसी, खून के साथ खाँसी और सीने में दर्द शामिल हैं।


जानें (हड्डी )बोन टीबी के लक्षण, कारण और बचाव

क्षय रोग - हड्डियों का टीबी (Bone TB)

टीबी (क्षय रोग) मूल रूप से दो प्रकार का होता है। एक जिसमें केवल फेफड़े प्रभावित होते हैं उसे पल्मोनरी ट्यूबरकुलोसिस (Pulmonary tuberculosis) कहा जाता है। और दूसरा, जो फेफड़ों से दूसरे अंगों में स्थानांतरित (transfer) हो जाता है, उसे एक्स्ट्रापल्मोनरी ट्यूबरकुलोसिस (extrapulmonary tuberculosis) के रूप में जाना जाता है।


जब टीबी फेफड़ों से हड्डियों में फैलता है, तो इसे हड्डियों का टीबी (क्षय रोग) कहा जाता है। यह एक्स्ट्रापल्मोनरी ट्यूबरकुलोसिस (extrapulmonary tuberculosis) का एक रूप है जो हड्डियों और जोड़ों में फैल जाता है। बोन क्षय रोग, टीबी का एक रूप है जो लंबी हड्डियों, रीड की हड्डी और जोड़ों को प्रभावित करता है।


फेफड़े और लिम्फ नोड्स (lymph nodes) के बाद, हड्डियां और जोड़ का टीबी सबसे आम तौर से होता है। रीढ़ की हड्डी सबसे आम जगह है जहाँ टीबी होता है। इसके बाद कूल्हे, घुटने, पैर, कोहनी, हाथ और कंधे प्रभावित होते हैं।


क्षय रोग - हड्डियों की टीबी के कारण (Causes of Bone TB)

हड्डियों के टीबी का विभिन्न कारण हो सकते हैं। कुछ में शामिल हैं:

  • टीबी का मुख्य कारण माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस (Mycobacterium tuberculosis) है, जो मुख्य रूप से फेफड़ों और लिम्फ नोड्स को प्रभावित करता है और ब्लड वेसल्स के माध्यम से हड्डियों और जोड़ों में फैल जाता है।
  • टीबी हवा के माध्यम से फैल सकता है।
  • संक्रमण प्रभावित व्यक्ति के रक्त (blood) या शरीर के बॉडी फ्लुइड्स (body fluids) के माध्यम से भी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है।
  • कुपोषण, पर्यावरण की स्थिति, और जीवन स्तर (lifestyle) जैसे खराब स्वच्छता, भीड़भाड़ वाली जगहों पर घर और गंदी बस्ती के क्षेत्र में रहने से भी टीबी हो सकता है।
  • टीबी अक्सर उन लोगों में पाया जाता है जिन्हें एड्स संक्रमण (AIDS) और डायबिटीज (Diabetes) है।
  • एड्स (AIDS) से पीड़ित लोगों में हड्डियों का टीबी होने की संभावना अधिक होती है क्योंकि एड्स से इम्युनिटी (immunity) कमजोर हो जाती है।

क्षय रोग - हड्डियों की टीबी के लक्षण (Symptoms of Bone Tuberculosis)

हड्डियों के टीबी का लक्षण स्पाइनल टीबी (spinal TB) के दर्द से शुरू होते हैं। अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • जीवन के पहले तीन वर्षों के दौरान यह रोग होने की संभावना ज्यादि है लेकिन सभी आयु में हड्डियों का टीबी हो सकता है।
  • हड्डियों का क्षय रोग के कुछ सामान्य लक्षण हैं:
    • बुखार
    • वजन घटना
    • रात में पसीना आना और
    • जोड़ों में दर्द खासकर रात के समय
  • अन्य लक्षणों में गंभीर पीठ दर्द, जकड़न, सूजन, मांसपेशियों में कमजोरी और हड्डी में विकृति (deformities) शामिल हैं।
  • जांच करने पर, मांसपेशियों में ऐंठन, चलने पर दर्द होना और लिम्फ नोड (lymph node) का सूझना देखा जा सकता है।

क्षय रोग - हड्डियों की टीबी के प्रकार (Types of Bone TB)

  1. रीड की हड्डी का टीबी: स्पाइन ट्यूबरकुलोसिस (रीढ़ का टीबी) को पॉट्स डिजीज (Pott’s disease) के नाम से भी जाना जाता है। रीढ़ की हड्डी का टीबी सबसे आम साइट है जिसमें टीबी जल्दी फैलता है। स्पाइन टीबी जीवन के किसी भी उम्र में हो सकता है लेकिन सबसे अधिक प्रभावित लोग 10 से 30 वर्ष के आयु वर्ग में होते हैं। स्पाइन टीबी एक दुर्लभ संक्रामक बीमारी है जो रीढ़ की हड्डी को कमजोर बनती है, जिससे किफोसिस (कूबड़) हो जाता है। पीठ दर्द, रीढ़ की टीबी का सबसे पहला और सबसे आम लक्षण है। कुछ लोग कठोरता, सूजन, बुखार और वजन घटने का भी अनुभव कर सकते हैं।
  2. कूल्हे के जोड़ का टीबी: रीढ़ का टीबी के बाद, कूल्हों में टीबी होने का सबसे आम साइट है। ज्यादातर प्रभावित 5 साल से 15 साल की उम्र के बच्चे होते हैं लेकिन यह किसी भी स्तर पर हो सकते हैं। रोगी को अंगों के छोटे होने, सूजन और चलने में दिक्कत महसूस हो सकती है।
  3. घुटने के जोड़ का टीबी: घुटने का टीबी, तीसरा सबसे आम स्थल है टीबी होने का। आमतौर पर बच्चे और युवा प्रभावित होते हैं। घुटने का टीबी एक संक्रामक रोग है जो घुटने के जोड़ों को विशेष रूप से उपास्थि (cartilage) को प्रभावित करता है जिससे जोड़ों के बीच की जगह कम होती है और गठिया होने की संभावना बढ़ जाती है। घुटने के जोड़ की गति और लचीलेपन में भी कमी आती है और कुछ लोग अपने घुटनों के पास सूजन का अनुभव कर सकते है।
  4. अन्य जोड़ों का टीबी: टीबी से लगभग कोई भी जोड़ प्रभावित हो सकता है, जिसमें कोहनी, कंधे, टखने (ankle) और कलाई शामिल हैं। लक्षण, कारण और निदान अन्य जोड़ों के जैसा ही होता है।

क्षय रोग - हड्डियों के टीबी का इलाज (Diagnosis of Bone TB)

हड्डियों के टीबी (क्षय रोग) के इलाज के विभिन्न तरीके हैं। डॉक्टर आपकी बीमारी की गंभीरता को पूरी तरह से देखने के बाद ही इलाज की सलाह देगा। इन विधियों में शामिल हैं:

  1. कीमोथेरपी (Chemotherapy): टीबी के रोगियों के इलाज का मुख्य तरीका एंटी-ट्यूबरकुलर थेरेपी (Anti-tubercular therapy) (एटीटी) है। WHO के द्वारा सुझाई गयी दवाओं का उपयोग ही कीमोथेरेपी में किया जाता है। आमतौर पर डॉक्टरों द्वारा सुझाई गई अवधि 9 से 12 महीने तक होती है।
  2. पोषण (Nutrition): उच्च प्रोटीन आहार, ताजी हवा और धूप सेकने से टीबी का रोग कम करने मैं मदद होती हैं।
  3. भौतिक चिकित्सा (Physiotherapy): एंटी-ट्यूबरकुलर थेरेपी (Anti-tubercular therapy) (एटीटी) की शुरुआत के साथ, रोग और दर्द कम होने लगते है, और धीरे-धीरे व्यायाम शुरू किए जाते हैं, जिसकी मदद से हड्डियों को मजबूत किया जाता है।
  4. शल्य चिकित्सा (Surgery): मरीजों की स्थिति के आधार पर विभिन्न मरीजों में विभिन्न प्रकार की सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। यह सर्जरी 4 तरह से की जाती है।

क्षय रोग - हड्डियों की टीबी के निवारण (Preventions of Bone TB)

टीबी से खुद को बचाने के लिए एक व्यक्ति को सही निवारक उपाय करने चाहिए, जैसे की:

  • मुंह को हमेशा मास्क और फेस कवर से ढकें, ताकि संक्रमण अन्य लोगों में न फैले।
  • अपनी दवाएं हमेशा समय पर लें। दवाओं को छोड़ने से बीमारी की पुनरावृत्ति हो सकती है जिसका इलाज करना अधिक कठिन होता है।
  • अपनी इम्युनिटी (immunity) को मजबूत रखने के लिए फल और सब्जियां खाएं।
  • धूम्रपान और शराब पीना बंद कर दें क्योंकि ये आपके फेफड़ों को गंभीर नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसके अलावा, कैफीनयुक्त (caffeinated) चीज़े लेना जैसे की कॉफ़ी पीना कम कर दें।
  • अपने शरीर के साथ-साथ पर्यावरण को भी स्वच्छ रखें क्योंकि खराब स्वच्छता से कई बीमारियों का विकास होता है।

अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न

हड्डियों का टीबी एक गंभीर स्थिति है क्योंकि इससे हड्डियां कमजोर हो जाती है। इसलिए, जितनी जल्दी हो सके टीबी का पता लगाना महत्वपूर्ण है। हां, अगर जल्द ही पता चल जाए तो हड्डियों के टीबी का इलाज संभव है और इसे रोका जा सकता है।

इलाज की अवधि आपके संक्रमण की गंभीरता पर निर्भर करती है। हालांकि, दवा की मदद से हड्डियों के टीबी में 9 महीने से लेकर 14 महीने तक का समय लग सकता है। अपने लिए सही इलाज खोजने के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

रक्त और शरीर के तरल पदार्थों (body fluids) के आदान-प्रदान से संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। टीबी मुख्य रूप से फेफड़ों और लिम्फ नोड्स (lymph nodes) को प्रभावित करता है और ब्लड वेसल्स के माध्यम से हड्डियों और जोड़ों में फैलता है।

आमतौर पर हड्डियों का टीबी रक्त और शरीर के अन्य तरल पदार्थों (body fluids) के आदान-प्रदान से फैल सकता है। हड्डियों के टीबी को सीधे हवा के माध्यम से नहीं फैलाया जा सकता है, लेकिन हड्डियों का टीबी आपके शरीर के विभिन्न हिस्सों जैसे फेफड़ों और लिम्फ नोड्स को प्रभावित करता है जो हवा के माध्यम से आसानी से फैल सकता है।

हड्डियों के टीबी से हड्डी में कमजोरी आ जाती है और यदि इसका जल्द पता ना लग पाए तो यह आपकी हड्डी और जोड़ जोड़ों में समस्या कर सकता हैगा। लेकिन अगर सही समय पर इसका इलाज न किया जाए तो यह खतरनाक हो सकता है।

यदि आप इलाज का कोर्स पूरा नहीं करते हैं तो टीबी के संक्रमण की वापसी की संभावना बहुत अधिक है। जब यह रोग दुबारा आता है तो पिछला कोई भी इलाज जल्दी काम नहीं करता है।

डॉक्टर टीबी में विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन ई से भरपूर पदार्थों का सेवन करने की सलाह देते हैं।
आंवला, टमाटर, संतरा, आम, गाजर, और अमरूद जैसे खाद्य पदार्थों में विटामिन ए, सी और ई ज्यादि मात्रा में होता है।

क्या करें:

  • इम्युनिटी मजबूत करने के लिए अच्छे फल और सब्जियों का सेवन करें।
  • नियमित रूप से समय पर दवाएं लें।
  • उचित स्वच्छता बनाए रखें।

क्या न करें:

  • दवाएं लेना न भूलें।
  • तंबाकू और शराब का सेवन न करें।
  • कॉफी और कैफीनयुक्त (caffeinated) पेय का अधिक सेवन ना करें।
  • चीनी, सफेद ब्रेड आदि जैसी चीजों का कम सेवन करें।

हड्डी की टीबी को ठीक करने के लिए डॉक्टर द्वारा सुझाए गए दवाइयों का समय से सेवन करने से टीबी जल्द ठीक हो सकता है। यदि नियमित रूप से लिया जाए तो रोगी की स्वास्थ्य स्थिति के आधार पर दवाएं 9 से 12 महीनों के भीतर हड्डियों के टीबी को ठीक किया जा सकता है।

एम आर आई (MRI) रीढ़ की हड्डी के टीबी के नरम ऊतक (soft tissues) और हड्डियों को देखने में मदद करता है और अन्य हड्डियों और जोड़ों में भी बीमारी का पता लगाने में सहायता करता है।