आर्थोस्कोपी सर्जरी क्या है? - Arthroscopy Meaning in Hindi

आर्थ्रोस्कोपी एक न्यूनतम इनवेसिव सर्जिकल प्रक्रिया है जो एक आर्थोपेडिक सर्जन द्वारा कई स्थितियों और बीमारियों के निदान, उपचार और मरम्मत के लिए की जाती है।


आर्थोस्कोपी सर्जरी एक प्रकार की कीहोल सर्जरी है जिसका उपयोग डॉक्टर जोड़ों के अंदर की समस्याओं को देखने के लिए और उनका इलाज करने के लिए इस्तेमाल करते हैं। यह एक छोटी सी सर्जरी है जिसकी मदद से आप एक दिन के अंदर इलाज करवा कर घर जा सकते हैं।


आर्थ्रोस्कोपिक सर्जरी का इस्तेमाल पहली बार मेनिस्कस टियर (meniscas tear), रनर के घुटने (runner's knee) या रोटेटर कफ टियर (rotator cuff tear) जैसी खेल चोटों के इलाज में किया गया था। आजकल, गैर-एथलीटों (non-atheletes) के इलाज के लिए भी आर्थ्रोस्कोपी का उपयोग किया जाता है। यह अनुमान लगाया गया है कि 80% आर्थोपेडिक सर्जन आर्थ्रोस्कोपी का अभ्यास करते हैं और इसके कम पुनर्वास समय और कम आक्रामक प्रक्रिया के कारण इसे मूल्यवान पाते हैं।

आर्थोस्कोपिक सर्जरी की आवश्यकता कब होती है? - When is Arthroscopic Surgery Required?

यदि आपके घुटनो में तेज दर्द हो रहा है जो समय के साथ बढ़ता जा रहा है और आपका दर्द दवाओं से भी ठीक नहीं हो रहा है तो आपको ऑर्थोपेडिक सर्जन की सलाह लेनी चाहिए। आपका डॉक्टर आपकी पूरी तरह जांच करने के बाद ही आपको आर्थोस्कोपी करने की सलाह देगा।


कुछ रोग और चोटें हमारे शरीर के कार्टिलेज, लिगामेंट, टेंडन्स, और मांसपेशियों को भी नुकसान पहुंचा सकती हैं। इसकी जांच और इलाज करने के लिए आर्थ्रोस्कोपिक सर्जरी की जा सकती है। कुछ सामान्य परेशानी जिनकी जांच और इलाज अर्थरोस्कोपी से किया जाता है, वह हैं:

  • घुटना
  • कन्धा
  • कलाई
  • कोहनी
  • एड़ियाँ
  • कूल्हा

आर्थोस्कोपिक सर्जरी की प्रक्रिया क्या होती है? - What is the Procedure for Arthroscopic Surgery?

सर्जरी से पहले आपके शरीर की पूरी जांच की जाएगी जिसमें शारीरिक परीक्षण (Physical examination), रक्त परीक्षण (blood tests), और इमेजिंग परीक्षण (imaging tests) किया जाता है। सारी जांच होने के बाद आपको पेशेंट ऑपरेटिंग कमरे में ले जाया जाएगा जहाँ आपकी सर्जरी की जाएगी।


सर्जरी के पहले आपका डॉक्टर आपके जोड़ों के अनुसार आपको एनेस्थिसिआ (anesthesia) देगा। एनेस्थीसिया (anesthesia) का इस्तेमाल दर्द को कम करने में किया जाता है।


आपका डॉक्टर आर्थ्रोस्कोप डालने के लिए एक छोटा चीरा (एक बटनहोल के आकार के बराबर) बनाएगा। आर्थ्रोस्कोप में एक कैमरा लेंस और एक लाइट होती है। आर्थोस्कोप के अंदर मौजूद कैमरे से जोड़ों के अंदर की स्थिति एक स्क्रीन पर दिखती है जिसकी मदद से डॉक्टर आपके जोड़ों के अंदर देख सकता है और इलाज कर सकता है ।


सर्जरी के बाद आपका डॉक्टर, आर्थ्रोस्कोप और अन्य किसी भी अटैचमेंट को हटा देंगे। वे घाव को विशेष टेप या टांके से बंद कर देंगे। आपकी स्थिति के आधार पर आपको डिस्चार्ज किया जाएगा और आपको कुछ दवाइयां, वयायाम और चिकित्सा (physiotherapy) लेने की सलाह दी जाएगी।

आर्थ्रोस्कोपी सर्जरी शरीर में कहाँ होती है? - Where Does Arthroscopy Surgery Take Place in the Body?

आर्थोस्कोपिक सर्जरी कई प्रकार की होती है जो आपके शरीर के अलग-अलग अंगो पे की जाती है। कुछ सबसे आम आर्थ्रोस्कोपी सर्जरी में घुटने, कंधे, कूल्हे (hip) और टखने (ankle) की सर्जरी आती है। घुटने की आर्थ्रोस्कोपी और शोल्डर आर्थ्रोस्कोपी का संक्षिप्त विवरण नीचे दिया गया है -


1. घुटने की आर्थोस्कोपी (Knee Arthroscopy)


घुटने की आर्थोस्कोपी एक तरह की सर्जिकल प्रक्रिया है जिससे घुटने के अंदर के भाग को देखने के लिए एक छोटे कैमरा का उपयोग किया जाता है। घुटने की आर्थ्रोस्कोपी, ऑर्थोपेडिस्ट (orthopedist) द्वारा की जाने वाली एक सामान्य प्रक्रिया है। घुटने के लिए अक्सर की जाने वाली आर्थोस्कोपिक प्रक्रियाओं में शामिल हैं:

  • एसीएल आर्थोस्कोपी (ACL ArthroscopicTreatment)
  • हड्डी टूटना (Fracture)
  • मिनिस्कस टियर (Meniscus tear)
  • अव्यवस्थित पटेला (dislocated patella)

2. कंधे की आर्थोस्कोपी (Shoulder Arthroscopy)


कंधे की अधिकांश समस्याओं के लिए चोट, अति प्रयोग और उम्र जिम्मेदार हैं। कंधे की आर्थ्रोस्कोपी कई समस्याओं के दर्दनाक


लक्षणों से राहत दे सकती है जो रोटेटर कफ टियर (Rotator Cuff Tear), कंधे की अव्यवस्था (dislocation of shoulder), कंधे की अस्थिरता (shoulder instability), और जोड़ के आसपास के अन्य कोमल ऊतकों (soft tissues) को नुकसान पहुंचाती हैं।

3. कूल्हों की आर्थोस्कोपिक (Hip Arthroscopy)


हिप आर्थ्रोस्कोपी एक सर्जिकल प्रक्रिया है जो डॉक्टरों को कट किये बिना कूल्हे के जोड़ को देखने की अनुमति देती है। हिप आर्थ्रोस्कोपी कई समस्याओं के दर्दनाक लक्षणों को दूर कर सकता है जो लैब्रम (labrum), आर्टिकुलर कार्टिलेज (articular cartilage) या जोड़ के आसपास के अन्य कोमल ऊतकों को नुकसान पहुंचाते हैं।


आर्थोस्कोपी सर्जरी के बाद देखभाल कैसे करें? - How to Take Care After Arthroscopy Surgery?

आपकी आर्थोस्कोपी होने के बाद आपका डॉक्टर आपको कुछ अन्य सुझाव भी दे सकता है, जिसकी मदद से आप जल्दी रिकवर कर सकते हैं, कुछ सुझाव जैसे की -

  • अपनी दवाएं समय से लें
  • नियमित रूप से फिजियोथेरेपी के लिए जाएं
  • सर्जरी के वजह से अगर सुजन हुआ है तो उस पर आइस पैक लगाएं
  • नियमित रूप से व्यायाम करें
  • पौष्टिक आहार का सेवन करें
  • और अगर आपको दिक्कत महसूस हो रही है तो तुरंत अपने ऑर्थोपेडिक सर्जन से सलाह लें

आर्थोस्कोपी सर्जरी में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न - Arthroscopy Surgery Related FAQ

आर्थ्रोस्कोपी से पूरी तरह से ठीक होने में लगभग 1 सप्ताह से लेकर कई महीनों तक का समय लग सकता है। यह कुछ कारणों पर निर्भर कर सकता है जैसे, कौन सा जोड़ प्रभावित हुआ था और आपका स्वास्थ्य कैसा था।

एक आर्थ्रोस्कोप का उपयोग करके घुटने की सर्जरी में 30 मिनट से लेकर 1 घंटे तक का समय लग सकता है।

लिगामेंट इंजरी का दवाईयों, बर्फ की सेकाई एवं बैंडेज/प्लास्टर द्वारा इसका इलाज संभव है। किन्तु गंभीर मामलों में जब लिगामेंट पूरी तरह से टूट जाती है तब आर्थोस्कोपी सर्जरी की आवश्यकता पड़ती है।

लिगामेंट चोट के कारण दर्द के साथ सूजन हो जाता है। अक्सर इसके इलाज में लापरवाही करने से दर्द एवं सूजन बढ़ती चली जाती है और मरीज का चलना भी मुश्किल हो जाता है। समय रहते अपने ओर्थपेडीक सर्जन को दिखा कर इसका इलाज़ करवाना चाहिए।

आर्थोस्कोपी सर्जरी के दौरान मरीज को बिलकुल भी दर्द का एहसास नहीं होता है, और उनका स्वास्थ्य देख कर उन्हें अगले दिन ही डिस्चार्ज कर दिया जाता है।